Mother is why … Suman is also taking charge of public safety from Kareena with her 8-month-old daughter on the back. | मां है इसलिए 8 महीने की बेटी काे पीठ पर लेकर काेराेना से जनसुरक्षा का भी जिम्मा निभा रहीं सुमन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भीलवाड़ा/भगवानपुरा7 घंटे पहलेलेखक: सुखदेव गाडरी

  • कॉपी लिंक
मांडल ब्लाॅक में भीमड़ियास के उप स्वास्थ्य केंद्र में नियुक्त एएनएम सुमन तंवर पर मां और नाैकरी की दाेहरी जिम्मेदारी है। - Dainik Bhaskar

मांडल ब्लाॅक में भीमड़ियास के उप स्वास्थ्य केंद्र में नियुक्त एएनएम सुमन तंवर पर मां और नाैकरी की दाेहरी जिम्मेदारी है।

मांडल ब्लाॅक में भीमड़ियास के उप स्वास्थ्य केंद्र में नियुक्त एएनएम सुमन तंवर पर मां और नाैकरी की दाेहरी जिम्मेदारी है। 8 महीने की बेटी काे संभालने के साथ क्षेत्र के लाेगाें काे काेराेना संक्रमण से सुरक्षित रखने का जिम्मा वे बाखूबी निभा रही हैं।

झुंझुनूं जिले के बुहाना उपखंड के गाडाखेडा़ निवासी सुमन तंवर ने यहां 5 मई काे ज्वाइन किया था। तब 4 माह के गर्भ से थीं। भीमड़ियास समेत गोकुलपुरा, राजपुरा, कुमावतों का खेड़ा, सूरजपुरा में तब भी घर -घर सर्वे किया। वे हर दिन 10-15 किलाेमीटर पैदल घूमती थीं। अब उनके आठ महीने की बेटी हैं। काेराेना की दूसरी लहर में विभागीय काम बढ़ा साथ ही इन दिनाें आईएलआई सर्वे जारी है। बुखार, खांसी, जुकाम से पीड़िताें को घर-घर जाकर दवा दे रही हैं।

पंचायत क्षेत्र में कोरोना पाॅजिटिव मरीजों को दवा का किट पहुंचाने, आइसाेलेशन में रहने की निगरानी की जिम्मेदारी भी सुमन संभाल रही हैं। आठ महीने की बेटी अनवी साथ हाेती है। ताैलिये से झाैला बनाकर पीठ पर बांध लेती हैं, इसमें अनवी रहती हैं। उसके लिए दूध-पानी की बाेतल, कुछ बिस्किट, अपना टिफिन, सेनेटाइजर आदि लेकर तय समय पर ड्यूटी के लिए निकल जाती हैं। पिछले साल ज्वाइनिंग के नाैवें दिन 14 मई से 15 जून तक उन्हाेंने गांवाें में सर्वे किया था।

मासूम अनवी काे भी जैसे मास्क की आदत हाे गई

सुमन तंवर ने बताया कि अनवी को कभी उसके पापा प्रविंद्रसिंह के पास छोड़ती भी हैं। छोटी हाेने से उनके पास राेती है। नजदीक ही हाेती हैं ताे घर जाकर संभालकर वापस काम में जुट जाती हैं। लेकिन दूर जाना हाेता है तब साथ ले जाती हैं। बेटी काे मास्क के साथ झाैले में रहने की आदत सी पड़ चुकी है। प्रविंद्र भीमड़ियास में रहकर ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। इनके 3 साल का बेटा है, जो गाडाखेड़ा में दादा-दादी के पास रह रहा है।

खबरें और भी हैं…

Source link

thenewhind
Author: thenewhind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *