In this village of Bekkarae, Kareena had the first outbreak in the state, now strictly such that the infection in the second wave could not be even touched. | यहां काेराेना से राज्य में पहली माैत हुई थी, अब सख्ती ऐसी कि दूसरी लहर में संक्रमण छू तक नहीं पाया

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • In This Village Of Bekkarae, Kareena Had The First Outbreak In The State, Now Strictly Such That The Infection In The Second Wave Could Not Be Even Touched.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बोकारो7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
गांव में 15 मार्च से ही लाॅकडाउन, रिश्तेदाराें तक के आने पर है राेक। - Dainik Bhaskar

गांव में 15 मार्च से ही लाॅकडाउन, रिश्तेदाराें तक के आने पर है राेक।

बोकारो के मुस्लिम बहुल चटनियाबाग गांव में काेराेना की पहली लहर में राज्य की पहली माैत हुई थी। 17 ग्रामीण संक्रमित भी हुए थे। इसके बाद एहतियात बरती कि दूसरी लहर में काेराेना गांव के किसी व्यक्ति काे छू तक नहीं सका। क्योंकि एहतियात के तौर पर यहां के लोगों ने 15 मार्च को ही गांव में लाॅकडाउन लगा दिया। सख्ती ऐसी कि गांव में बाहर से किसी के यहां रिश्तेदाराें के आने पर भी राेक है।

रमजान में लाेगाें ने घरों में ही नमाज अदा की। निकाह और इंतकाल में भीड़ नहीं जुटने दी, बल्कि सादगी से रस्म-रिवाज पूरे किए। झारखंड में पहली मौत के बाद सुर्खियों में आए इस गांव के ग्रामीणाें ने कोरोना काे कैसे काबू किया, भास्कर ने हाल जाना।

पहली लहर में चटनियांबाग गांव के 72 वर्षीय याकूब अंसारी की काेराेना से माैत हुई थी। वे सीसीएल से रिटायर हुए थे और गांव की मस्जिद में अजान देने का काम करते थे। तीन अप्रैल 2020 काे वे संक्रमित हुए और 9 अप्रैल काे दम ताेड़ दिया था। धीरे-धीरे गांव के 17 लाेग संक्रमित हाे गए। इसके बाद गांव सहित आसपास के तीन किमी क्षेत्र काे प्रशासन ने 34 दिनों तक सील कर दिया था। गांव के 62 वर्षीय समाजसेवी लाल मोहम्मद ने कहा कि पुलिस की नाकाबंदी के कारण तब ऐसा लगता था कि हम लोग जेल में कैद होकर रह गए हैं।

गांव के सदर मो. वारिस आलम ने बताया कि काेराेना की पहली लहर ने काफी कुछ सिखा दिया था। इस बार जैसे ही मार्च में काेराेना के केस बढ़ने लगे ताे हमलाेगाें ने बैठक की। फैसला लिया कि गांव में काेराेना काे घुसने नहीं देंगे। इसके बाद 15 मार्च से शादी-विवाह में भीड़ लगाने की सख्त मनाही है। 15 लोगाें काे ही शादी में भाग लेने की अनुमति है। इंतकाल होने पर 10-12 लोग ही कब्रगाह में जाते हैं। जुमे की नमाज घरों में ही पढ़ते हैं। मस्जिदों में चार लोग ही नमाज अदा करते हैं। पिछले साल से सबक लेते हुए गांव में बाहरी लाेगाें की आवाजाही पर रोक है।

खबरें और भी हैं…

Source link

thenewhind
Author: thenewhind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *