Holi 2021: From Holashtak 22, Auspicious Work Will Stop – Holi 2021 : होलाष्टक 22 से, आठ दिन शुभ कार्यों पर रहेगी रोक

ख़बर सुनें

होलाष्टक 22 मार्च को लग जाएगा। रंगों के त्योहार होली से आठ दिन पहले होलाष्टक लगने के साथ ही शुभ कार्यों पर रोक लग जाएगी। शहर के तिराहों, चौराहों पर वर्ष भर के कष्ट-विकार जलाने के लिए होलिकाएं तैयार हो चुकी हैं। 25 मार्च को रंगभरी एकादशी पर वेणी माधव के दरबार से संगमनगरी में रंगोत्सव की शुरुआत हो जाएगी।

फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष अष्टमी यानी होली से आठ दिन पहले होलाष्टक लगने के साथ ही शुभ कार्यों पर एक बारगी विराम लग जाएगा। होलिका दहन के बाद धुरंडी के साथ होलाष्टक समाप्त होगा। इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य वर्जित रहेंगे। ज्योतिषियों के अनुसार फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष अष्टमी से फाल्गुन की शुक्ल पक्ष पूर्णिमा तक होलाष्टक प्रभावी रहेगा।

इस बार 28 मार्च को होलिका दहन होगा, वहीं 29 मार्च को चैत्र प्रतिपदा के दिन रंगोत्सव मनाया जाएगा। फिलहाल शहर से लेकर ग्राम्यांचलों तक होलिकाएं तैयार की जा रही हैं। शहर में हर तिराहे, चौराहे पर होलिकाओं की प्रतिष्ठापना की गई है। मुहल्लों के बच्चे, किशोर और युवा होलिकाओं के लिए लकड़ियां जुटा रहे हैं, ताकि होलिकाएं ऊंची की जा सकें। उधर, मंदिरों और मठों में फाग, होरी गीतों पर ढोल-मंजीरे के साथ लोग झूमने लगे हैं। इसी के साथ फागुनी बहार छाने लगी है। ज्योतिषाचार्य ब्रजेंद्र मिश्र होलाष्टक की परंपरा के पीछे पौराणिक मान्यताओं का जिक्र करते हैं। उनके मुताबिक राजा हिरण्यकश्यप ने होलाष्टक की अवधि में ही भगवान विष्णु के भक्त प्रह्लाद को बंदी बना लिया था और यातनाएं दी थीं।

इसी होलाष्टक के दौरान ही हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका की मदद से भक्त प्रह्लाद को जलाकर मार डालने का षड्यंत्र रचा था। लेकिन, खुद होलिका का दहन हो गया और भक्त प्रह्लाद प्रभु का नाम लेकर बच निकले थे। इसलिए होलाष्टक में कोई शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। होलाष्टक के दौरान ही 25 मार्च को रंगभरी एकादशी होगी। रंगभरी एकादशी को प्रयागराज के नगर देवता भगवान वेणी माधव रंगों से सराबोर होंगे। शहर के लोग भगवान वेणी माधव की रंगमय स्तुति करेंगे। इसी के साथ पांच दिवसीय रंगोत्सव आरंभ हो जाएगा।
 

होलाष्टक में ही कामदेव को भगवान शिव ने किया था भस्म

पुराणों में होलाष्टक को लेकर एक और मान्यता है। कहा जाता है कि भगवान शिव ने फाल्गुन मास की अष्टमी तिथि को कामदेव को भस्म कर दिया था। इससे प्रकृति में शोक की लहर फैल गई थी और लोगों ने शुभ कार्य करना बंद कर दिया था। इस वजह से भी होलाष्टक में को शुभ कार्य नहीं किए जाते।

होलाष्टक 22 मार्च को लग जाएगा। रंगों के त्योहार होली से आठ दिन पहले होलाष्टक लगने के साथ ही शुभ कार्यों पर रोक लग जाएगी। शहर के तिराहों, चौराहों पर वर्ष भर के कष्ट-विकार जलाने के लिए होलिकाएं तैयार हो चुकी हैं। 25 मार्च को रंगभरी एकादशी पर वेणी माधव के दरबार से संगमनगरी में रंगोत्सव की शुरुआत हो जाएगी।

फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष अष्टमी यानी होली से आठ दिन पहले होलाष्टक लगने के साथ ही शुभ कार्यों पर एक बारगी विराम लग जाएगा। होलिका दहन के बाद धुरंडी के साथ होलाष्टक समाप्त होगा। इस दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य वर्जित रहेंगे। ज्योतिषियों के अनुसार फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष अष्टमी से फाल्गुन की शुक्ल पक्ष पूर्णिमा तक होलाष्टक प्रभावी रहेगा।

Source link

thenewhind
Author: thenewhind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *