रात के 10 बजे अकेले ही 5-6 लोगों से भिड़ी ` लेडी सिंघम ‘ , आईपीएस नवनीत सिकेरा ने सुनाई पुरी कहानी

कहा जा रहा है कि यह भारत की वायुशक्ति को कई गुना बढ़ा देगा।
राफेल 4.5 जेनरेशन का विमान है और इसमें नवीनतम हथियार व बेहतरीन सेंसर लगे हैं।

अंबाला एयरबेस के पास 4 गांवों में धारा 144
इस बीच अंबाला एयरबेस के पास 4 गांवों में धारा 144 लागू कर दी गई है। फाइटर जेट की लैंडिंग के दौरान लोगों की भीड़ छतों पर जमा होने और फोटोग्राफी पर भी सख्त पाबंदी लगा दी गई है। पुलिस ने बताया कि अगर कोई ऐसा करता है तो उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।

‘और खा गए डांट दरोगा जी…’

दरअसल नवनीत सिकेरा ने अपनी फेसबुक पोस्ट में बताया है कि कैसे लॉकडाउन के दौरान एक महिला पुलिसकर्मी ने चौराहे पर ग्रुप बनाकर खड़े पुलिसकर्मियों की ही क्लास लगा दी। आगे की कहानी आप खुद नवनीत सिकेरा के शब्दों में ही पढ़िए। सिकेरा ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘और खा गए डांट दरोगा जी… हुआ यूं कि मेरे पूर्व PRO रहे इंस्पेक्टर साहब अपने कुछ मित्रों के साथ रविवार के लॉकडाउन में गपड़ पंचायत कर रहे थे, रात के 10 बजे थे। इतने में एक अकेली महिला कांस्टेबल स्कूटी से वहां पहुंची और सबकी बढ़िया क्लास लगा दी।’

‘5-6 लोग मैडम की क्लास सुनते रहे ।

नवनीत सिकेरा ने आगे लिखा, ‘ये सभी 5-6 लोग मैडम की क्लास सुनते रहे और सॉरी के अलावा कोई शब्द नहीं था। सभी मित्र दरोगा जी की ओर देखें और दरोगा जी एक्स्ट्रा डांट खाएं। खैर सबने मैडम को सॉरी कहा और मैडम ने अपनी स्कूटी स्टार्ट की और चली गईं। इस पूरे वाकिये में 3 बात गौर करने लायक हैं, पहली मैं प्रीति सरोज की हिम्मत की सराहना करूंगा कि उन्होंने साहस से काम लिया, रात्रि के समय अकेले 5-6 लोगों से भिड़ने के लिए बहुत हिम्मत चाहिए।’

‘यही आदर्श तरीका है पुलिस की ड्यूटी का’

अपने पोस्ट आगे बढ़ाते हुए सिकेरा ने लिखा, ‘दूसरी बात, प्रीति ने सबको लॉक डाउन के नियम के प्रति चेताया, हड़काया पर कोई भी अपशब्द नहीं कहा। यही आदर्श तरीका होता है, पुलिस की ड्यूटी करने का। Firm BUT Polite…’। तीसरी बात दरोगा जी और उनके साथियों ने विनम्रता से अपनी गलती मानी और अपने से अधीनस्थ पुलिसकर्मी को बिना अपना परिचय दिए सॉरी कहा, और इतना ही नहीं स्वयं इंस्पेक्टर आशियाना को फोन करके प्रीति सरोज की तारीफ की और मुझे भी प्रीति के साहस के बारे में बताया।’

‘गुजरात की महिला कांस्टेबल सुनीता यादव की याद आई ।

नवनीत ने आगे लिखा, ‘इस पूरे घटनाक्रम में देखा जाए तो सभी के सभी धन्यवाद के पात्र हैं। मैनेजमेंट में इसे विन विन सिचुएशन कहा जाता है। यही एक आदर्श समाज और आदर्श नागरिक का गुण होता है। मुझे इस घटना से गुजरात की महिला कांस्टेबल सुनीता यादव की भी याद आई, बहुत संभव है सुनीता ने हजारों अपनी सहकर्मी पुलिसकर्मियों को डयूटी के प्रति और निष्ठावान बनने के लिए प्रेरित किया हो। खैर… ई बताइल दरोगा जी कैसी लगी हड़काई।’

‘देश का रंग फीका नहीं पड़ने दूंगी’

आपको बता दें कि इससे पहले हाल ही में नवनीत सिकेरा ने लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी कर रही एक नवविवाहित महिला पुलिसकर्मी की तस्वीर अपने फेसबुक पेज पर शेयर की थी। इस तस्वीर में महिला के हाथ में शादी का चूड़ा नजर आ रहा था। तस्वीर के कैप्शन में नवनीत सिकेरा ने लिखा है, ‘मेहंदी के रंग का क्या, फिर से चढ़ जाएगा… देश का रंग फीका नहीं पड़ने दूंगी… मेरी हर सांस देश के नाम।’ नवनीत सिकेरा की यह पोस्ट काफी वायरल हुई और लोगों ने उनकी पोस्ट पर कमेंट करते हुए पुलिसकर्मियों के जज्बे की तारीफ भी की।

thenewhind
Author: thenewhind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *